राष्ट्रमंडल खेलों की तैयारी – रोज़ उजड़ते आशियाने

Posted by on Apr 16, 2010 in My Experiences, society

Continue

ज़िन्दगी गुज़र जाती है एक आशियाँ बनाने में, और कुछ पल लगते हैं दिल्ली सरकार को उसे गिराने में| 15 अप्रैल को यही हुआ दिल्ली जंगपुरा स्थित इस बस्ती में| पिछले 50 सालों से बसी यह बस्ती कुछ ही मिनटों में मलवे का एक ढेर बन गयी| आए दिन यही हो रहा है दिल्ली में रह रहे गरीबों के साथ| कहने को तो राष्ट्रमंडल खेल विकास को दर्शाते हैं परन्तु विकास किसका हो रहा है और किसका नहीं यह साफ़ नज़र आ रहा है|

Tags: